सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

"Shatkarma" According to Gheranda Samhita

 Six yogic activities for body purification described in Gheranda Samhita.

Shatkarmas means six karma by which the body is purified. The right sequence of Shatkarma described in the Gheranda Samhita is- (1) Dhauti (2) Basti (3) Neti (4) Nauli (5) Trataka (6) Kapalabhati.

(1) Dhauti - 

According to Gheranda Samhita, there are four types of Dhauti, which removes the impurities of the body. (A) Antha Dhauti (B) Danta Dhauti (C) Hrid Dhauti (D) Mul Shodhan

(A) Antha Dhauti- 

There are four types of Antha Dhauti. (i) Vaat saar-Antha Dhauti (ii) Vari saar- Antha Dhauti (iii) Agnisaar- Antha Dhauti (iv) Bahiskrita- Antha Dhauti

(i) Vaat saar-Antha Dhauti

Method - Having contracted the mouth like the beak of a crow, gradually drink air. Fill the air in the stomach gradually; the air rotates in the stomach. Then slowly force it out of the lower passage.

This is a very secret process that causes the purification of the body, destroys all diseases and increases the gastric-fire.

 (ii) Vari saar- Antha Dhauti

Method - Fill lukewarm water in the mouth and drink slowly under the throat, then five postures are done. (taadaasan, tiryak taadaasan, katichakraasan, tiryak bhujangaasan, udaraakarshan) then moving the water out of the rectum while pushing the bottom through the stomach. 

This process purifies the body and by practicing it with care, one gets a luminous body. It is said to be the highest Dhauti. He, who practices it with ease, purifies his filthy body and turns it into a shining one. Initially it should be practiced only under the supervision of the Guru. It has also been called Sankhprakshaalan Kriya. 

(iii) Agnisaar- Antha Dhauti

Method- Press the navel and intestines towards the spine for many times quickly, This process is the Agnisara Dhauti.

Agnisara, gives success in the practice of yoga. It cures all the diseases of the stomach and enhances the internal fire. It should keep very secret. The gods are also difficult to get it. This helps the seeker definitely get a bright body. 

(iv) Bahiskrita- Antha Dhauti

In this action, filling the stomach with air with the help of a crow's beak-like posture, holding the air there for one and a half hours, it should be forcefully taken towards the intestines. then he is thrown out through the anus In this action, like a crow's beak, one has to drink the air from the mouth, after which it is held in the stomach for some time and expels it from the lower passage.

Abdominal disorders are cured. The body becomes light and radiant. Kundalini shakti is beneficial in awakening. Makes the breeding institute stronger.

(B) Danta Dhauti- 

There are five types of Danta Dhauti (i) Danta-mula Dhauti (ii) Jihva-mula Dhauti (iii) & (iv) Karna Dhauti (v) Kapala-randhra-Dhauti

(i) Danta-mula Dhauti- For purification of the teeth-  One should rub the teeth with catechu-powder or with pure earth, so long as dental impurities are not removed. It is an important process in the practice of Yoga for the Yogis. It should be done daily in the morning by the Yogis in order to preserve the teeth.

(ii) Jihva-mula Dhauti- For purification of the toung- Join together the three fingers viz. index, the middle and the ring finger. Put them into the throat, Rub well and clean the root of the tongue. By washing it again throwout the phlegm. Having thus washed it, rubbed it with butter and milk it again and again. Then holding the tip of the tongue with an iron instrument, pull it out slowly and slowly.

One should do this daily with diligence, before the rising and setting sun. Thus the tongue becomes elongated.

(iii) & (iv) Karna Dhauti- Purification of the two holes of the ear- One should Clean the two holes of the ears by the index and the ring fingers. By practising it daily, the mystical sounds are heard.

(v) Kapala-randhra-Dhauti- In this Dhauti Kriya, making a cup-like shape of the hand, pat the skull with cold water. By this practice, diseases arising from derangements of phlegmatic humorous are cured. The nadis become purified and clairvoyance is induced.

(C) Hrid-Dhauti- 

There are Three types of  Hrid-Dhauti - (i) Danda Dhaut (ii) Vmana Dhauti (iii) Vastra Dhauti

(i) Danda Dhauti- 

Method- According to Maharishi Gherand- The sticks of the soft part of the banana, the sticks of turmeric should be taken out slowly by inserting them slowly from the esophagus to the stomach. By this process, all the phlegm, bile and other impurities are expelled, out of the mouth, and every kind of heart diseases are surely cured.

(ii) Vmana Dhauti-

Method- After meal, one should drink water full up to the throat. Then looking for a short while upwards, e He should vomit it out. By daily practising it, disorders of phlegm and bile are cured.

This dhauti is also known by the name Vyagrakriya. Vamana is actually of two types - one that is done on an empty stomach, which is named Kunjalkriya and the other is Vygrakriya which is done after the meal. 

(iii) Vastra Dhauti- 

Method- Having swallowed slowly a thin cloth, which is four-fingers wide, he should draw it out again. This process cures abdominal diseases, fever, enlarged spleen, leprosy and other skin diseases and disorders of phlegm and bile. One gets health, strength and cheerfulness.

(D) Mul Shodhan- 

By the stalk of the root of turmeric or the middle finger, the rectum should be carefully cleansed with water over and over again. It cures constipation, indigestion, increases the beauty and vigour of the body and Ignites gastric fire.

(2) Basti- 

Basti is the second purification practice among the six Shatkarmas. It is of two kinds. (A) Jal Basti (B) Sthala Basti

(A) Jal Basti- 

Method- It is done in water. Entering into water upto the navel and assuming the posture called Utkatasana, one should contract and dilate the sphincter-muscle of the anus. This is called Jala-Basti. It cures disorders of digestion and that of the wind. The body becomes free from all diseases and becomes as beautiful as that of the God Cupid.

(B) Sthala Basti-

Method-Assuming the posture called Paschimottanasana. Moving the intestines slowly downwards. Then contract and dilate the sphincter muscle of the anus with the Aswinimudra. By this practice, constipation never occurs. It increases gastric fire.

(3) Neti- 

Neti is the third purification practice among the six Shatkarmas.

Method-Take a thin thread measuring half a cubit. Put it in the nostrils and pass it through the throat and take it out through the mouth. This is called Neti Kriya. It destroys the disorders of phlegm and produces clairvoyance or clear sight.

(4) Nauli- 

With great force, to move the stomach and intestines from one side to the other, that is called Nauli. This destroys all diseases and increases the bodily fire.

(5)Tratak- 

According to Gheranda Samhita there are three types of tratakas- (i) Bahirtratak Tratak (ii) Antaranga Tratak (iii) Adhatratak Tratak

Looking at a small object or the flame of a lamp continuously for a long time, till tears start flowing from the eye. This action is called tratak. Its practice leads to attainment of Shambhavi Siddhi and surely all diseases of the eyes are destroyed. 

(6) Kapalabhati - 

According to Gheranda Samhita, there are three types of Kapalbhati-  (i) Vamakrama (ii) Vyutkrama (iii) Sheetkrama 

(i) Vamakrama Kapalabhati: Purification of the brain by Vata means air element is Vatakram Kapalbhati. Inhale through the left nostril and exhale through the right nostril, then inhale through the right nostril and exhale through the left nostril. The action of complement and laxative should not be fast. The practice of this kriya gives relief from cold and cough.

(ii) Vyutkrama Kapalabhati: Draw water through both the nostrils and remove it from the mouth. Then draw water from the mouth and remove it from the nostrils. This Vyutkrama (inversion) Kapalbhati cures cough-related diseases.

(iii) Sheetkrama Kapalabhati: Sheetkrama is the third and last type of Kapalbhati. In this process, water is taken out through the nostrils after drinking it through the mouth.  By this practice, one becomes like the God Cupid; old age never comes to him and decrepitude never disfigures him. The body becomes healthy, elastic and disorders of phlegm are destroyed.

Shatkarma According to HathaYog Pradipika

Classification of Yoga Asana


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चित्त | चित्तभूमि | चित्तवृत्ति

 चित्त  चित्त शब्द की व्युत्पत्ति 'चिति संज्ञाने' धातु से हुई है। ज्ञान की अनुभूति के साधन को चित्त कहा जाता है। जीवात्मा को सुख दुःख के भोग हेतु यह शरीर प्राप्त हुआ है। मनुष्य द्वारा जो भी अच्छा या बुरा कर्म किया जाता है, या सुख दुःख का भोग किया जाता है, वह इस शरीर के माध्यम से ही सम्भव है। कहा भी गया  है 'शरीरमाद्यं खलु धर्मसाधनम्' अर्थात प्रत्येक कार्य को करने का साधन यह शरीर ही है। इस शरीर में कर्म करने के लिये दो प्रकार के साधन हैं, जिन्हें बाह्यकरण व अन्तःकरण के नाम से जाना जाता है। बाह्यकरण के अन्तर्गत हमारी 5 ज्ञानेन्द्रियां एवं 5 कर्मेन्द्रियां आती हैं। जिनका व्यापार बाहर की ओर अर्थात संसार की ओर होता है। बाह्य विषयों के साथ इन्द्रियों के सम्पर्क से अन्तर स्थित आत्मा को जिन साधनों से ज्ञान - अज्ञान या सुख - दुःख की अनुभूति होती है, उन साधनों को अन्तःकरण के नाम से जाना जाता है। यही अन्तःकरण चित्त के अर्थ में लिया जाता है। योग दर्शन में मन, बुद्धि, अहंकार इन तीनों के सम्मिलित रूप को चित्त के नाम से प्रदर्शित किया गया है। परन्तु वेदान्त दर्शन अन्तःकरण चतुष्टय की

योग आसनों का वर्गीकरण एवं योग आसनों के सिद्धान्त

योग आसनों का वर्गीकरण (Classification of Yogaasanas) आसनों की प्रकृति को ध्यान में रखते हुए इन्हें तीन भागों में विभक्त किया जा सकता है (1) ध्यानात्मक आसन- ये वें आसन है जिनमें बैठकर पूजा पाठ, ध्यान आदि आध्यात्मिक क्रियायें की जाती है। इन आसनों में पद्मासन, सिद्धासन, स्वस्तिकासन, सुखासन, वज्रासन आदि प्रमुख है। (2) व्यायामात्मक आसन- ये वे आसन हैं जिनके अभ्यास से शरीर का व्यायाम तथा संवर्धन होता है। इसीलिए इनको शरीर संवर्धनात्मक आसन भी कहा जाता है। शारीरिक स्वास्थ्य के संरक्षण तथा रोगों की चिकित्सा में भी इन आसनों का महत्व है। इन आसनों में सूर्य नमस्कार, ताडासन,  हस्तोत्तानासन, त्रिकोणासन, कटिचक्रासन आदि प्रमुख है। (3) विश्रामात्मक आसन- शारीरिक व मानसिक थकान को दूर करने के लिए जिन आसनों का अभ्यास किया जाता है, उन्हें विश्रामात्मक आसन कहा जाता है। इन आसनों के अन्तर्गत शवासन, मकरासन, शशांकासन, बालासन आदि प्रमुख है। इनके अभ्यास से शारीरिक थकान दूर होकर साधक को नवीन स्फूर्ति प्राप्त होती है। व्यायामात्मक आसनों के द्वारा थकान उत्पन्न होने पर विश्रामात्मक आसनों का अभ्यास थकान को दूर करके ताजगी

हठयोग प्रदीपिका के अनुसार षट्कर्म

हठप्रदीपिका के अनुसार षट्कर्म हठयोगप्रदीपिका हठयोग के महत्वपूर्ण ग्रन्थों में से एक हैं। इस ग्रन्थ के रचयिता योगी स्वात्माराम जी हैं। हठयोग प्रदीपिका के द्वितीय अध्याय में षटकर्मों का वर्णन किया गया है। षटकर्मों का वर्णन करते हुए स्वामी स्वात्माराम  जी कहते हैं - धौतिर्बस्तिस्तथा नेतिस्त्राटकं नौलिकं तथा।  कपालभातिश्चैतानि षट्कर्माणि प्रचक्षते।। (हठयोग प्रदीपिका-2/22) अर्थात धौति, बस्ति, नेति, त्राटक, नौलि और कपालभोंति ये छ: कर्म हैं। बुद्धिमान योगियों ने इन छः कर्मों को योगमार्ग में करने का निर्देश किया है। इन छह कर्मों के अतिरिक्त गजकरणी का भी हठयोगप्रदीपिका में वर्णन किया गया है। वैसे गजकरणी धौतिकर्म के अन्तर्गत ही आ जाती है। इनका वर्णन निम्नलिखित है 1. धौति-  धौँति क्रिया की विधि और  इसके लाभ एवं सावधानी- धौँतिकर्म के अन्तर्गत हठयोग प्रदीपिका में केवल वस्त्र धौति का ही वर्णन किया गया है। धौति क्रिया का वर्णन करते हुए योगी स्वात्माराम जी कहते हैं- चतुरंगुल विस्तारं हस्तपंचदशायतम। . गुरूपदिष्टमार्गेण सिक्तं वस्त्रं शनैर्गसेत्।।  पुनः प्रत्याहरेच्चैतदुदितं धौतिकर्म तत्।। (हठयोग प्रद

योग के बाधक तत्व

  योग साधना में बाधक तत्व (Elements obstructing yoga practice) हठप्रदीपिका के अनुसार योग के बाधक तत्व- अत्याहार: प्रयासश्च प्रजल्पो नियमाग्रह:। जनसंएरच लौल्य च षड्भिर्योगो विनश्चति।। अर्थात्‌- अधिक भोजन, अधिक श्रम, अधिक बोलना, नियम-पालन में आग्रह, अधिक लोक सम्पर्क तथा मन की चंचलता, यह छ: योग को नष्ट करने वाले तत्व है अर्थात्‌ योग मार्ग में प्रगति के लिए बाधक है। उक्त श्लोकानुसार जो विघ्न बताये गये है, उनकी व्याख्या निम्न प्रकार है 1. अत्याहार-  आहार के अत्यधिक मात्रा में ग्रहण से शरीर की जठराग्नि अधिक मात्रा में खर्च होती है तथा विभिन्न प्रकार के पाचन-संबधी रोग जैसे अपच, कब्ज, अम्लता, अग्निमांघ आदि उत्पन्न होते है। यदि साधक अपनी ऊर्जा साधना में लगाने के स्थान पर पाचन क्रिया हेतू खर्च करता है या पाचन रोगों से निराकरण हेतू षट्कर्म, आसन आदि क्रियाओं के अभ्यास में समय नष्ट करता है तो योगसाधना प्राकृतिक रुप से बाधित होती | अत: शास्त्रों में कहा गया है कि - सुस्निग्धमधुराहारश्चर्तुयांश विवर्जितः । भुज्यते शिवसंप्रीत्यै मिताहार: स उच्यते ।।       अर्थात जो आहार स्निग्ध व मधुर हो और जो परमेश

षटकर्मो का अर्थ, उद्देश्य, उपयोगिता

षटकर्मो का अर्थ-  शोधन क्रिया का अर्थ - Meaning of Body cleansing process 'षट्कर्म' शब्द में दो शब्दों का मेल है षट्+कर्म। षट् का अर्थ है छह (6) तथा कर्म का अर्थ है क्रिया। छह क्रियाओं के समुदाय को षट्कर्म कहा जाता है। यें छह क्रियाएँ योग में शरीर शोधन हेतु प्रयोग में लाई जाती है। इसलिए इन्हें षट्कर्म शब्द या शरीर शोधन की छह क्रियाओं के अर्थ में 'शोधनक्रिया' नाम से कहा जाता है । इन षटकर्मो के नाम - धौति, वस्ति, नेति, त्राटक, नौलि व कपालभाति है। जैसे आयुर्वेद में पंचकर्म चिकित्सा को शोधन चिकित्सा के रूप में स्थान प्राप्त है। उसी प्रकार षट्कर्म को योग में शोधनकर्म के रूप में जाना जाता है । प्राकृतिक चिकित्सा में भी पंचतत्वों के माध्यम से शोधन क्रिया ही की जाती है। योगी स्वात्माराम द्वारा कहा गया है- कर्म षटकमिदं गोप्यं घटशोधनकारकम्।  विचित्रगुणसंधायि पूज्यते योगिपुंगवैः।। (हठयोगप्रदीपिका 2/23) शरीर की शुद्धि के पश्चात् ही साधक आन्तरिक मलों की निवृत्ति करने में सफल होता है। प्राणायाम से पूर्व इनकी आवश्यकता इसलिए भी कही गई है कि मल से पूरित नाड़ियों में प्राण संचरण न हो

Yoga MCQ Questions Answers in Hindi

 Yoga multiple choice questions in Hindi for UGC NET JRF Yoga, QCI Yoga, YCB Exam नोट :- इस प्रश्नपत्र में (25) बहुसंकल्पीय प्रश्न है। प्रत्येक प्रश्न के दो (2) अंक है। सभी प्रश्न अनिवार्य ।   1. किस उपनिषद्‌ में ओंकार के चार चरणों का उल्लेख किया गया है? (1) प्रश्नोपनिषद्‌         (2) मुण्डकोपनिषद्‌ (3) माण्डूक्योपनिषद्‌  (4) कठोपनिषद्‌ 2 योग वासिष्ठ में निम्नलिखित में से किस पर बल दिया गया है? (1) ज्ञान योग  (2) मंत्र योग  (3) राजयोग  (4) भक्ति योग 3. पुरुष और प्रकृति निम्नलिखित में से किस दर्शन की दो मुख्य अवधारणाएं हैं ? (1) वेदांत           (2) सांख्य (3) पूर्व मीमांसा (4) वैशेषिक 4. निम्नांकित में से कौन-सी नाड़ी दस मुख्य नाडियों में शामिल नहीं है? (1) अलम्बुषा  (2) कुहू  (3) कूर्म  (4) शंखिनी 5. योगवासिष्ठानुसार निम्नलिखित में से क्या ज्ञानभूमिका के अन्तर्गत नहीं आता है? (1) शुभेच्छा (2) विचारणा (3) सद्भावना (4) तनुमानसा 6. प्रश्नोपनिषद्‌ के अनुसार, मनुष्य को विभिन्न लोकों में ले जाने का कार्य कौन करता है? (1) प्राण वायु (2) उदान वायु (3) व्यान वायु (4) समान वायु

हठयोग का अर्थ , परिभाषा, उद्देश्य

  हठयोग का अर्थ भारतीय चिन्तन में योग मोक्ष प्राप्ति का एक महत्वपूर्ण साधन रहा है, योग की विविध परम्पराओं (ज्ञानयोग, कर्मयोग, भक्तियोग, हठयोग) इत्यादि का अन्तिम लक्ष्य भी मोक्ष (समाधि) की प्राप्ति ही है। हठयोग के साधनों के माध्यम से वर्तमान में व्यक्ति स्वास्थ्य लाभ तो करता ही है पर इसके आध्यात्मिक लाभ भी निश्चित रूप से व्यक्ति को मिलते है।  हठयोग- नाम से यह प्रतीत होता है कि यह क्रिया हठ- पूर्वक की जाने वाली है। परन्तु ऐसा नही है अगर हठयोग की क्रिया एक उचित मार्गदर्शन में की जाये तो साधक सहजतापूर्वक इसे कर सकता है। इसके विपरित अगर व्यक्ति बिना मार्गदर्शन के करता है तो इस साधना के विपरित परिणाम भी दिखते है। वास्तव में यह सच है कि हठयोग की क्रियाये कठिन कही जा सकती है जिसके लिए निरन्तरता और दृठता आवश्यक है प्रारम्भ में साधक हठयोग की क्रिया के अभ्यास को देखकर जल्दी करने को तैयार नहीं होता इसलिए एक सहनशील, परिश्रमी और तपस्वी व्यक्ति ही इस साधना को कर सकता है।  संस्कृत शब्दार्थ कौस्तुभ में हठयोग शब्द को दो अक्षरों में विभाजित किया है।  1. ह -अर्थात हकार  2. ठ -अर्थात ठकार हकार - का अर्थ

बंध एवं मुद्रा का अर्थ , परिभाषा, उद्देश्य

  मुद्रा का अर्थ एवं परिभाषा  'मोदन्ते हृष्यन्ति यया सा मुद्रा यन्त्रिता सुवर्णादि धातुमया वा'   अर्थात्‌ जिसके द्वारा सभी व्यक्ति प्रसन्‍न होते हैं वह मुद्रा है जैसे सुवर्णादि बहुमूल्य धातुएं प्राप्त करके व्यक्ति प्रसन्‍नता का अनुभव अवश्य करता है।  'मुद हर्ष' धातु में “रक्‌ प्रत्यय लगाकर मुद्रा शब्दं॑ की निष्पत्ति होती है जिसका अर्थ प्रसन्‍नता देने वाली स्थिति है। धन या रुपये के अर्थ में “मुद्रा' शब्द का प्रयोग भी इसी आशय से किया गया है। कोष में मुद्रा' शब्द के अनेक अर्थ मिलते हैं। जैसे मोहर, छाप, अंगूठी, चिन्ह, पदक, रुपया, रहस्य, अंगों की विशिष्ट स्थिति (हाथ या मुख की मुद्रा)] नृत्य की मुद्रा (स्थिति) आदि।  यौगिक सन्दर्भ में मुद्रा शब्द को 'रहस्य' तथा “अंगों की विशिष्ट स्थिति' के अर्थ में लिया जा सकता है। कुण्डलिनी शक्ति को जागृत करने के लिए जिस विधि का प्रयोग किया जाता है, वह रहस्यमयी ही है। व गोपनीय होने के कारण सार्वजनिक नहीं की जाने वाली विधि है। अतः रहस्य अर्थ उचित है। आसन व प्राणायाम के साथ बंधों का प्रयोग करके विशिष्ट स्थिति में बैठकर 'म

चित्त प्रसादन के उपाय

महर्षि पतंजलि ने बताया है कि मैत्री, करुणा, मुदिता और उपेक्षा इन चार प्रकार की भावनाओं से भी चित्त शुद्ध होता है। और साधक वृत्तिनिरोध मे समर्थ होता है 'मैत्रीकरुणामुदितोपेक्षाणां सुखदुःखपुण्यापुण्यविषयाणां भावनातश्चित्तप्रसादनम्' (योगसूत्र 1/33) सुसम्पन्न व्यक्तियों में मित्रता की भावना करनी चाहिए, दुःखी जनों पर दया की भावना करनी चाहिए। पुण्यात्मा पुरुषों में प्रसन्नता की भावना करनी चाहिए तथा पाप कर्म करने के स्वभाव वाले पुरुषों में उदासीनता का भाव रखे। इन भावनाओं से चित्त शुद्ध होता है। शुद्ध चित्त शीघ्र ही एकाग्रता को प्राप्त होता है। संसार में सुखी, दुःखी, पुण्यात्मा और पापी आदि सभी प्रकार के व्यक्ति होते हैं। ऐसे व्यक्तियों के प्रति साधारण जन में अपने विचारों के अनुसार राग. द्वेष आदि उत्पन्न होना स्वाभाविक है। किसी व्यक्ति को सुखी देखकर दूसरे अनुकूल व्यक्ति का उसमें राग उत्पन्न हो जाता है, प्रतिकूल व्यक्ति को द्वेष व ईर्ष्या आदि। किसी पुण्यात्मा के प्रतिष्ठित जीवन को देखकर अन्य जन के चित्त में ईर्ष्या आदि का भाव उत्पन्न हो जाता है। उसकी प्रतिष्ठा व आदर को देखकर दूसरे अनेक

योग की परिभाषा

भारतीय चिन्तन पद्धति व दर्शन में योग विद्या का स्थान सर्वोपरि एवं अति' महत्वपूर्ण तथा विशिष्ट रहा है। भारतीय ग्रन्थो मे अनेक स्थानो पर योग विद्या से सम्बन्धित ज्ञान भरा पडा है। वेदों उपनिषदों, पुराणों, गीता आदि प्राचीन व प्रामाणिक ग्रन्थो मे योग शब्द वर्णित है। योग की विविध परिभाषाऐँ इस प्रकार है।   वेदों के अनुसार योग की परिभाषा- वेदो का वास्तविक उद्देश्य ज्ञान प्राप्त करना तथा आध्यात्मिक उन्नति करना है। योग को स्पष्ट करते हुए ऋग्वेद में कहा है। यस्मादृते न सिध्यति यज्ञो विपश्चितश्चन्। स धीनां योगमिनवति योगमिन्वतिः।। (ऋत्ववेद 1/18/7)   अर्थात विद्वानो का कोई भी कर्म बिना योग के पूर्ण अर्थात सिध्द नहीं होता । सद्वा नो योग आ भुवत् स राये स पुरंध्याम् गमद् वाजेगिरा स न: । । ऋ०1/5/3 साम० 3०/2/10, अथर्ववेद 20/29/9   अर्थात वह अद्वितीय सर्वशक्तिमान अखण्ड आनन्द परिपूर्ण सत्य सनातन परमतत्व हमारी समाधि की स्थिति मे दर्शन देने के निमित्त अभिमुख हो। योगे योगे तवस्तरं वाजे वाजे हवामहे। सखाय इन्द्र भूतये। । शुक्ल यजु० 11/14    अर्थात हम सखा (साधक) प्रत्येक योग अर्थात समाधि की प्राप्ति के लिए