सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

UGC NET Yoga: Year 2017 Paper

 UGC NET Yoga: Year 2017 Paper with Answer Key

UGC NET YOGA- These Junior Research Fellowship & Assistant Professor Eligibility exam held on November 2017. Download UGC NET YOGA Solved MCQ in English.

1. ”Sametyam Yoga Uchyate” is described in which verse of Bhagvadgeeta?
(1) 3/48 (2) 2/50 (3) 3/50 (4) 2/48

2. Propounder of Samkhya Darshan is :
(1) Gautam (2) Kapila (3) Kanada (4) Jaimini

3. According to Patanjali the Karma of a yogi is of which type?
(1) Shukla (2) Krishna (3) Ashuklakrishna (4) Shuklakrishna

4. How many principal Nadis are mentioned in Kathopanishad?
(1) 100 (2) 101 (3) 110 (4) 111

5. ‘ Which one of the following Asanas not mentioned in Shiva Samhita?
(1) Padmasana (2) Ugrasana (3) Swastikasana (4) Bhadrasana

6. According to Hatha Ratnavali, the Chittavrittinirodha is called as :
(1) Yoga (2) Raja Yoga (3) Hatha Yoga (4) Maha Yoga

7. The recommended daily dose of protein, for an adult is :
(1) 2 gm/kg body weight (2) 1 3111/ kg body weight
(3) 0.5 gm/kg body weight (4) 1.5 gm/kg body Weight

8. Which structure of the living cell is called as ”Suicidal Bag" ?
(1) Centrosome (2) Ribosome
(3) Lysosome (4) Golgi Apparatus

9. Concept of Panchakosha is mentioned in :
(1) Chhandogya Upanishad (2) Taittiriya Upanishad
(3) Mandukya Upanishad (4) Mundaka Upanishad

10.Psychology is the scientific study of :
(1) Soul
(2) Mind
(3) Human Behaviour and mental processes
(4) Consciousness

11.According to Ayurveda, the three pillars of life are :
(‘1) Vata, Pitta, Kapha (2) Satva, Rajas, Tamas
(3) Dharma, Artha, Kama (4) Ahara, Nidra, Brahmacharya

12.The aim of yoga education focuses on :
(1) knowledge only (2) strength only
(3) social relationship only (4) allround development

13. Which statement is true for Kapalabhati?
(1) Inspiration is Active (2) Expiration is Passive
(3) Inspiration is Passive (4) Inspiration and expiration are Active

14.The method of Samadhi Siddhj according to Maharshi Patanjali
( (a) Pranayama (b) Ishwar Pram’dhana (C) Abhyas-Vairagya (d) Pratyahara
Find the correct combination according to the code :
Code :
(1) (a) and (d) are correct
(2) (b) and (c) are correct
(3) (b) and (d) are correct
(4) (c) and (d) are correct

15. In which of the following seasons the practice of yoga should be started by new practitioners ?
(a) Hemanta (b) Sharada (c) Shishira (d) Vasanta
Find the correct combination according to the code :
Code :
(1) (c) and (d) are correct
(2) (a) and (b) are correct
(3) (a) and (c) are correct
(4) (b) and (d) are correct

16.Types of Kumbhaka mentioned in Hatha Ratnavali are :

(a) Bhastrika, Bhramari (b) Kewal, Bhujangikaran
(c) Murccha, Plavani (d) Seetkari, Sheetali

Find the correct combination according to the code :

Code :
(1) (a), (b) and (c) are correct
(2) (b), (C) and (d) are correct
(3) (a), (b) and (d) are correct
(4) (a), (c) and (d) are correct

17.Which of the following vitamins are Fat soluble?

(a) Vitamin A (b) Vitamin B (c) Vitamin C (d) Vitamin D

Find the correct combination according to the code :
Code :
(1) (b) and (c)) (2) (a) and (d)
(3) (a) and (b (4) (b) and (d)

18. For Kapha prakriti individuals, which of the following types of food are beneficial.
(a) Unctuous (b) Light
(C) Dry (d) Heavy
Find the correct combination according to the code :
Code :
(1) (a) and (b) are correct
(2) (b) and (c) are correct
(3) (a) and (d) are correct
(4) (c) and (d) are correct

19.According to Hatha Pradeepika, which food items are Apathya for a Yoga Practitioner :
(a) Curd (b) Milk
(c) Butter Milk (d) Butter
Find the correct combination according to the code :
Code :
(1) (a) and (C) (2) (a) and (d)
(3) (c) and (d) (4) (b) and (d)

20.The Purificatory methods not beneficial for Eye problems are :
(a) Trataka (b) Basti (c) Neti (d) Nauli
Find the correct combination according to the code :
Code :
(1) (a) and (d) are correct (2) (b) and (d) are correct
(3) (a) and (c) are correct (4) (b) and (c) are correct

21.Gomukhasana is mostly beneficial in :
(a) Eye disorder (b) Lung diseases
(c) Skin disorders (d) Backache
Find the correct combination according to the code :
Code :
(1) (a) and (b) are correct (2) (a) and (c) are correct
(3) (b) and (d) are correct (4) (c) and (d) are correct


.22.Asanas contraindicated in Cervical Spondylosis are?
(a) Makarasana (b) Bhujangasana (c) Shashankasana (d) Padahastasana
Find the correct combination according to the code:
Code :
(1) (a) and (c) are correct
(2) (c) and (d) are correct
(3) (a) and (b) are correct
(4) (b) and (c) are correct

23.Diseases caused due to stress are :
(a) Headache (b) Hypertension (c) Diabetes (d) Autism
Find the correct combination according to the code :
Code :
(1) (a), (b) and (c) are correct
(2) (a), (b) and (d) are correct
(3) (b), (c) and (d) are correct
(4) (a) and (d) are correct

24.Dhanurasana is contraindicated in :
(a) Hypertension (b) Constipation
(c) Abdominal obesity (d) Hernia
Find the correct combination according to the code : 

Code :
(1) (b) and (c) are correct
(2) (a) and (d) are correct
(3) (c) and (d) are correct
(4) (a) and (b) are correct

25.Yogic practices :
(a) involve slow and steady exercises
(b) lead to fatigue
(c) lead to peace of mind
(d) involve vigorous exercises ,
Find the correct combination according to the code :
Code :
(1) (a) and (c) are correct
(2) (b) and (d) are correct
(3) (c) and (d) are correct
(4) (a) and (d) are correct

Answers- 1-(4),2-(2), 3-(3) ,4-(2), 5-(4) ,6 -(4), 7-(2) ,8-(3), 9-(2), 10-(3), 11-(1), 12-(4), 13-(4), 14-(2), 15-(4), 16-(3), 17-(2), 18-(2), 19-(1), 20-(2), 21-(3), 22-(2), 23-(1), 24-(2), 25-(1)

To be continuous……


इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चित्त | चित्तभूमि | चित्तवृत्ति

 चित्त  चित्त शब्द की व्युत्पत्ति 'चिति संज्ञाने' धातु से हुई है। ज्ञान की अनुभूति के साधन को चित्त कहा जाता है। जीवात्मा को सुख दुःख के भोग हेतु यह शरीर प्राप्त हुआ है। मनुष्य द्वारा जो भी अच्छा या बुरा कर्म किया जाता है, या सुख दुःख का भोग किया जाता है, वह इस शरीर के माध्यम से ही सम्भव है। कहा भी गया  है 'शरीरमाद्यं खलु धर्मसाधनम्' अर्थात प्रत्येक कार्य को करने का साधन यह शरीर ही है। इस शरीर में कर्म करने के लिये दो प्रकार के साधन हैं, जिन्हें बाह्यकरण व अन्तःकरण के नाम से जाना जाता है। बाह्यकरण के अन्तर्गत हमारी 5 ज्ञानेन्द्रियां एवं 5 कर्मेन्द्रियां आती हैं। जिनका व्यापार बाहर की ओर अर्थात संसार की ओर होता है। बाह्य विषयों के साथ इन्द्रियों के सम्पर्क से अन्तर स्थित आत्मा को जिन साधनों से ज्ञान - अज्ञान या सुख - दुःख की अनुभूति होती है, उन साधनों को अन्तःकरण के नाम से जाना जाता है। यही अन्तःकरण चित्त के अर्थ में लिया जाता है। योग दर्शन में मन, बुद्धि, अहंकार इन तीनों के सम्मिलित रूप को चित्त के नाम से प्रदर्शित किया गया है। परन्तु वेदान्त दर्शन अन्तःकरण चतुष्टय की

योग आसनों का वर्गीकरण एवं योग आसनों के सिद्धान्त

योग आसनों का वर्गीकरण (Classification of Yogaasanas) आसनों की प्रकृति को ध्यान में रखते हुए इन्हें तीन भागों में विभक्त किया जा सकता है (1) ध्यानात्मक आसन- ये वें आसन है जिनमें बैठकर पूजा पाठ, ध्यान आदि आध्यात्मिक क्रियायें की जाती है। इन आसनों में पद्मासन, सिद्धासन, स्वस्तिकासन, सुखासन, वज्रासन आदि प्रमुख है। (2) व्यायामात्मक आसन- ये वे आसन हैं जिनके अभ्यास से शरीर का व्यायाम तथा संवर्धन होता है। इसीलिए इनको शरीर संवर्धनात्मक आसन भी कहा जाता है। शारीरिक स्वास्थ्य के संरक्षण तथा रोगों की चिकित्सा में भी इन आसनों का महत्व है। इन आसनों में सूर्य नमस्कार, ताडासन,  हस्तोत्तानासन, त्रिकोणासन, कटिचक्रासन आदि प्रमुख है। (3) विश्रामात्मक आसन- शारीरिक व मानसिक थकान को दूर करने के लिए जिन आसनों का अभ्यास किया जाता है, उन्हें विश्रामात्मक आसन कहा जाता है। इन आसनों के अन्तर्गत शवासन, मकरासन, शशांकासन, बालासन आदि प्रमुख है। इनके अभ्यास से शारीरिक थकान दूर होकर साधक को नवीन स्फूर्ति प्राप्त होती है। व्यायामात्मक आसनों के द्वारा थकान उत्पन्न होने पर विश्रामात्मक आसनों का अभ्यास थकान को दूर करके ताजगी

हठयोग प्रदीपिका के अनुसार षट्कर्म

हठप्रदीपिका के अनुसार षट्कर्म हठयोगप्रदीपिका हठयोग के महत्वपूर्ण ग्रन्थों में से एक हैं। इस ग्रन्थ के रचयिता योगी स्वात्माराम जी हैं। हठयोग प्रदीपिका के द्वितीय अध्याय में षटकर्मों का वर्णन किया गया है। षटकर्मों का वर्णन करते हुए स्वामी स्वात्माराम  जी कहते हैं - धौतिर्बस्तिस्तथा नेतिस्त्राटकं नौलिकं तथा।  कपालभातिश्चैतानि षट्कर्माणि प्रचक्षते।। (हठयोग प्रदीपिका-2/22) अर्थात धौति, बस्ति, नेति, त्राटक, नौलि और कपालभोंति ये छ: कर्म हैं। बुद्धिमान योगियों ने इन छः कर्मों को योगमार्ग में करने का निर्देश किया है। इन छह कर्मों के अतिरिक्त गजकरणी का भी हठयोगप्रदीपिका में वर्णन किया गया है। वैसे गजकरणी धौतिकर्म के अन्तर्गत ही आ जाती है। इनका वर्णन निम्नलिखित है 1. धौति-  धौँति क्रिया की विधि और  इसके लाभ एवं सावधानी- धौँतिकर्म के अन्तर्गत हठयोग प्रदीपिका में केवल वस्त्र धौति का ही वर्णन किया गया है। धौति क्रिया का वर्णन करते हुए योगी स्वात्माराम जी कहते हैं- चतुरंगुल विस्तारं हस्तपंचदशायतम। . गुरूपदिष्टमार्गेण सिक्तं वस्त्रं शनैर्गसेत्।।  पुनः प्रत्याहरेच्चैतदुदितं धौतिकर्म तत्।। (हठयोग प्रद

योग के बाधक तत्व

  योग साधना में बाधक तत्व (Elements obstructing yoga practice) हठप्रदीपिका के अनुसार योग के बाधक तत्व- अत्याहार: प्रयासश्च प्रजल्पो नियमाग्रह:। जनसंएरच लौल्य च षड्भिर्योगो विनश्चति।। अर्थात्‌- अधिक भोजन, अधिक श्रम, अधिक बोलना, नियम-पालन में आग्रह, अधिक लोक सम्पर्क तथा मन की चंचलता, यह छ: योग को नष्ट करने वाले तत्व है अर्थात्‌ योग मार्ग में प्रगति के लिए बाधक है। उक्त श्लोकानुसार जो विघ्न बताये गये है, उनकी व्याख्या निम्न प्रकार है 1. अत्याहार-  आहार के अत्यधिक मात्रा में ग्रहण से शरीर की जठराग्नि अधिक मात्रा में खर्च होती है तथा विभिन्न प्रकार के पाचन-संबधी रोग जैसे अपच, कब्ज, अम्लता, अग्निमांघ आदि उत्पन्न होते है। यदि साधक अपनी ऊर्जा साधना में लगाने के स्थान पर पाचन क्रिया हेतू खर्च करता है या पाचन रोगों से निराकरण हेतू षट्कर्म, आसन आदि क्रियाओं के अभ्यास में समय नष्ट करता है तो योगसाधना प्राकृतिक रुप से बाधित होती | अत: शास्त्रों में कहा गया है कि - सुस्निग्धमधुराहारश्चर्तुयांश विवर्जितः । भुज्यते शिवसंप्रीत्यै मिताहार: स उच्यते ।।       अर्थात जो आहार स्निग्ध व मधुर हो और जो परमेश

षटकर्मो का अर्थ, उद्देश्य, उपयोगिता

षटकर्मो का अर्थ-  शोधन क्रिया का अर्थ - Meaning of Body cleansing process 'षट्कर्म' शब्द में दो शब्दों का मेल है षट्+कर्म। षट् का अर्थ है छह (6) तथा कर्म का अर्थ है क्रिया। छह क्रियाओं के समुदाय को षट्कर्म कहा जाता है। यें छह क्रियाएँ योग में शरीर शोधन हेतु प्रयोग में लाई जाती है। इसलिए इन्हें षट्कर्म शब्द या शरीर शोधन की छह क्रियाओं के अर्थ में 'शोधनक्रिया' नाम से कहा जाता है । इन षटकर्मो के नाम - धौति, वस्ति, नेति, त्राटक, नौलि व कपालभाति है। जैसे आयुर्वेद में पंचकर्म चिकित्सा को शोधन चिकित्सा के रूप में स्थान प्राप्त है। उसी प्रकार षट्कर्म को योग में शोधनकर्म के रूप में जाना जाता है । प्राकृतिक चिकित्सा में भी पंचतत्वों के माध्यम से शोधन क्रिया ही की जाती है। योगी स्वात्माराम द्वारा कहा गया है- कर्म षटकमिदं गोप्यं घटशोधनकारकम्।  विचित्रगुणसंधायि पूज्यते योगिपुंगवैः।। (हठयोगप्रदीपिका 2/23) शरीर की शुद्धि के पश्चात् ही साधक आन्तरिक मलों की निवृत्ति करने में सफल होता है। प्राणायाम से पूर्व इनकी आवश्यकता इसलिए भी कही गई है कि मल से पूरित नाड़ियों में प्राण संचरण न हो

Yoga MCQ Questions Answers in Hindi

 Yoga multiple choice questions in Hindi for UGC NET JRF Yoga, QCI Yoga, YCB Exam नोट :- इस प्रश्नपत्र में (25) बहुसंकल्पीय प्रश्न है। प्रत्येक प्रश्न के दो (2) अंक है। सभी प्रश्न अनिवार्य ।   1. किस उपनिषद्‌ में ओंकार के चार चरणों का उल्लेख किया गया है? (1) प्रश्नोपनिषद्‌         (2) मुण्डकोपनिषद्‌ (3) माण्डूक्योपनिषद्‌  (4) कठोपनिषद्‌ 2 योग वासिष्ठ में निम्नलिखित में से किस पर बल दिया गया है? (1) ज्ञान योग  (2) मंत्र योग  (3) राजयोग  (4) भक्ति योग 3. पुरुष और प्रकृति निम्नलिखित में से किस दर्शन की दो मुख्य अवधारणाएं हैं ? (1) वेदांत           (2) सांख्य (3) पूर्व मीमांसा (4) वैशेषिक 4. निम्नांकित में से कौन-सी नाड़ी दस मुख्य नाडियों में शामिल नहीं है? (1) अलम्बुषा  (2) कुहू  (3) कूर्म  (4) शंखिनी 5. योगवासिष्ठानुसार निम्नलिखित में से क्या ज्ञानभूमिका के अन्तर्गत नहीं आता है? (1) शुभेच्छा (2) विचारणा (3) सद्भावना (4) तनुमानसा 6. प्रश्नोपनिषद्‌ के अनुसार, मनुष्य को विभिन्न लोकों में ले जाने का कार्य कौन करता है? (1) प्राण वायु (2) उदान वायु (3) व्यान वायु (4) समान वायु

हठयोग का अर्थ , परिभाषा, उद्देश्य

  हठयोग का अर्थ भारतीय चिन्तन में योग मोक्ष प्राप्ति का एक महत्वपूर्ण साधन रहा है, योग की विविध परम्पराओं (ज्ञानयोग, कर्मयोग, भक्तियोग, हठयोग) इत्यादि का अन्तिम लक्ष्य भी मोक्ष (समाधि) की प्राप्ति ही है। हठयोग के साधनों के माध्यम से वर्तमान में व्यक्ति स्वास्थ्य लाभ तो करता ही है पर इसके आध्यात्मिक लाभ भी निश्चित रूप से व्यक्ति को मिलते है।  हठयोग- नाम से यह प्रतीत होता है कि यह क्रिया हठ- पूर्वक की जाने वाली है। परन्तु ऐसा नही है अगर हठयोग की क्रिया एक उचित मार्गदर्शन में की जाये तो साधक सहजतापूर्वक इसे कर सकता है। इसके विपरित अगर व्यक्ति बिना मार्गदर्शन के करता है तो इस साधना के विपरित परिणाम भी दिखते है। वास्तव में यह सच है कि हठयोग की क्रियाये कठिन कही जा सकती है जिसके लिए निरन्तरता और दृठता आवश्यक है प्रारम्भ में साधक हठयोग की क्रिया के अभ्यास को देखकर जल्दी करने को तैयार नहीं होता इसलिए एक सहनशील, परिश्रमी और तपस्वी व्यक्ति ही इस साधना को कर सकता है।  संस्कृत शब्दार्थ कौस्तुभ में हठयोग शब्द को दो अक्षरों में विभाजित किया है।  1. ह -अर्थात हकार  2. ठ -अर्थात ठकार हकार - का अर्थ

बंध एवं मुद्रा का अर्थ , परिभाषा, उद्देश्य

  मुद्रा का अर्थ एवं परिभाषा  'मोदन्ते हृष्यन्ति यया सा मुद्रा यन्त्रिता सुवर्णादि धातुमया वा'   अर्थात्‌ जिसके द्वारा सभी व्यक्ति प्रसन्‍न होते हैं वह मुद्रा है जैसे सुवर्णादि बहुमूल्य धातुएं प्राप्त करके व्यक्ति प्रसन्‍नता का अनुभव अवश्य करता है।  'मुद हर्ष' धातु में “रक्‌ प्रत्यय लगाकर मुद्रा शब्दं॑ की निष्पत्ति होती है जिसका अर्थ प्रसन्‍नता देने वाली स्थिति है। धन या रुपये के अर्थ में “मुद्रा' शब्द का प्रयोग भी इसी आशय से किया गया है। कोष में मुद्रा' शब्द के अनेक अर्थ मिलते हैं। जैसे मोहर, छाप, अंगूठी, चिन्ह, पदक, रुपया, रहस्य, अंगों की विशिष्ट स्थिति (हाथ या मुख की मुद्रा)] नृत्य की मुद्रा (स्थिति) आदि।  यौगिक सन्दर्भ में मुद्रा शब्द को 'रहस्य' तथा “अंगों की विशिष्ट स्थिति' के अर्थ में लिया जा सकता है। कुण्डलिनी शक्ति को जागृत करने के लिए जिस विधि का प्रयोग किया जाता है, वह रहस्यमयी ही है। व गोपनीय होने के कारण सार्वजनिक नहीं की जाने वाली विधि है। अतः रहस्य अर्थ उचित है। आसन व प्राणायाम के साथ बंधों का प्रयोग करके विशिष्ट स्थिति में बैठकर 'म

चित्त प्रसादन के उपाय

महर्षि पतंजलि ने बताया है कि मैत्री, करुणा, मुदिता और उपेक्षा इन चार प्रकार की भावनाओं से भी चित्त शुद्ध होता है। और साधक वृत्तिनिरोध मे समर्थ होता है 'मैत्रीकरुणामुदितोपेक्षाणां सुखदुःखपुण्यापुण्यविषयाणां भावनातश्चित्तप्रसादनम्' (योगसूत्र 1/33) सुसम्पन्न व्यक्तियों में मित्रता की भावना करनी चाहिए, दुःखी जनों पर दया की भावना करनी चाहिए। पुण्यात्मा पुरुषों में प्रसन्नता की भावना करनी चाहिए तथा पाप कर्म करने के स्वभाव वाले पुरुषों में उदासीनता का भाव रखे। इन भावनाओं से चित्त शुद्ध होता है। शुद्ध चित्त शीघ्र ही एकाग्रता को प्राप्त होता है। संसार में सुखी, दुःखी, पुण्यात्मा और पापी आदि सभी प्रकार के व्यक्ति होते हैं। ऐसे व्यक्तियों के प्रति साधारण जन में अपने विचारों के अनुसार राग. द्वेष आदि उत्पन्न होना स्वाभाविक है। किसी व्यक्ति को सुखी देखकर दूसरे अनुकूल व्यक्ति का उसमें राग उत्पन्न हो जाता है, प्रतिकूल व्यक्ति को द्वेष व ईर्ष्या आदि। किसी पुण्यात्मा के प्रतिष्ठित जीवन को देखकर अन्य जन के चित्त में ईर्ष्या आदि का भाव उत्पन्न हो जाता है। उसकी प्रतिष्ठा व आदर को देखकर दूसरे अनेक

योग की परिभाषा

भारतीय चिन्तन पद्धति व दर्शन में योग विद्या का स्थान सर्वोपरि एवं अति' महत्वपूर्ण तथा विशिष्ट रहा है। भारतीय ग्रन्थो मे अनेक स्थानो पर योग विद्या से सम्बन्धित ज्ञान भरा पडा है। वेदों उपनिषदों, पुराणों, गीता आदि प्राचीन व प्रामाणिक ग्रन्थो मे योग शब्द वर्णित है। योग की विविध परिभाषाऐँ इस प्रकार है।   वेदों के अनुसार योग की परिभाषा- वेदो का वास्तविक उद्देश्य ज्ञान प्राप्त करना तथा आध्यात्मिक उन्नति करना है। योग को स्पष्ट करते हुए ऋग्वेद में कहा है। यस्मादृते न सिध्यति यज्ञो विपश्चितश्चन्। स धीनां योगमिनवति योगमिन्वतिः।। (ऋत्ववेद 1/18/7)   अर्थात विद्वानो का कोई भी कर्म बिना योग के पूर्ण अर्थात सिध्द नहीं होता । सद्वा नो योग आ भुवत् स राये स पुरंध्याम् गमद् वाजेगिरा स न: । । ऋ०1/5/3 साम० 3०/2/10, अथर्ववेद 20/29/9   अर्थात वह अद्वितीय सर्वशक्तिमान अखण्ड आनन्द परिपूर्ण सत्य सनातन परमतत्व हमारी समाधि की स्थिति मे दर्शन देने के निमित्त अभिमुख हो। योगे योगे तवस्तरं वाजे वाजे हवामहे। सखाय इन्द्र भूतये। । शुक्ल यजु० 11/14    अर्थात हम सखा (साधक) प्रत्येक योग अर्थात समाधि की प्राप्ति के लिए